Lok Dastak

Hindi Samachar, हिंदी समाचार, Latest News in Hindi, Breaking News in Hindi.Lok Dastak

जीवन में अध्यात्म के सुझाव

1 min read

कब आएगा वह आज का दिन

समय बड़ा बलवान होता है।जो बीत गया वो वापिस लौट कर नहीं आता।हम जन्म-लेते हैं जब कुछ समझ आती है तो उस समय उचित कार्य ( धर्म कर आत्मा को पवित्र करने वाला ) यह सोच कर टाल देते हैं कि भविष्य में कर लेंगे। पर जब आता है वह कल तब आनंद से जीने की अक्ल हमारी लुप्त हो जाती है ।

हम सोचने लग जाते है कैसे बनायें और अधिक समृद्ध आने वाला कल जो जीवन भर यही क्रम चलता ही रहता है । क्योंकि समय अपनी गति से चलता रहता है।जो कार्य जिस समय हमको करना चाहिये उसे नहीं करके हम नादानी में समय उजुल-फ़िज़ूल बातों में नष्ट कर देते हैं।जब समय दस्तक देता है तब याद आता है कि जिस कार्य को हम्हें बहुत पहले करना था वो समय तो हमने पहले नष्ट कर दिया।

इसलिये कहा है भगवान महावीर ने तुम समय को जानो, क्षण को जानो | हर पल है क़ीमती | भले ही समय हमें मुफ्त में मिलता है पर यह एक अमूल्य संपदा है | हम इसका सही मूल्यांकन करते हुए अच्छा उपयोग कर इसे सही दिशा में नियोजित करें व सदुपयोग करते रहें | व्यर्थ की बातों में क़ीमती पल को गँवाना बेवक़ूफ़ी हैं । कल जो था बीत गया आएगा नहीं वापिस ।

कल जो आएगा अभी देखा नहीं जो नज़र आ रहा है वो आज और अभी है । अभी वर्तमान समय में इस भरत क्षेत्र में आने वाले पल को,कब , कहाँ , कैसे किसने देखा है? धूप-छांव के मध्य संधि की, कहाँ रेखा है? इस सच्चाई को समझ,जो वर्तमान मे जीता है उसने ही भविष्य को वर्तमान मे देखा है।

रहें सदा प्रसन्न मन

हमारा जीवन एक दूसरे पर आश्रित है एक का प्रभाव दूसरे पर निश्चित ही पड़ता है । विचारो में भिन्नता होना स्वाभाविक है क्योंकि सभी के कर्म संस्कार भिन्न भिन्न होते है।लेकिन मनकी भिन्नता में हमारी विवेक शक्ति काम करती है। विचारों के आदान-प्रदान में मतभेद तो हो सकता हैं |

हर के भिन्न विचार होना भी ग़लत नहीं हैं परन्तु यह दोगला पन असली-नक़ली की परत तन-मन-वचन-जीवन की एकरूपता आदि को खंडित करता है। जिसके मन में गठबंधन ही मनभेद का सृजन करते है।

यही मनभेद नीचता व क्रूरता में भी बदल जाता है जिसके कारण विघटन की कारगुज़ारी होती है। हम मन की भिन्नता को मिटाकर सहज ,सरल बनकर ,विवेक का सदुपयोग करके शांतिपूर्वक जी सकते है।परस्पर सौहार्द हमारा सबके साथ हो I

ऐसे में सच्चे को अपनाना व करना सदैव बुरे का प्रतिकार | विश्वास सदा ही होगा जहां रिश्तों का होगा आधार। मतभेद और भेदभाव को जहाँ न मिले कभी आहार। आपसी सामंजस्य ही रखना जहाँ पे हो यही संस्कार। गलती हम से हो जाये तो माफी मांगने में संकोच न करे और दूसरे से हो जाये तो सरल हृदय से सामने वाले को माफ कर दें और शुध्द मन रखते हुए प्रसन्नचित रहे।

हमारा दृष्टिकोण सकारात्मक रहे हमेशा तो हम माफी मांगने और माफ करने में कभी संकोच नहीं कर सकते।सरल हृदय से माफी मांगने और देने वाले हमेशा आत्मा को उज्ज्वल बना सकते हैं | हमारा हृदय अगड़म-बगड़म कूड़ा-करकट भरने की टोकरी नहीं है । यह प्रसन्नता व मधुर स्मृतियाँ को सँजोने का स्वर्ण पात्र हैं । इसी उद्देश्य के लिए मात्र हम इसका सदुपयोग करे । ताकि सदा प्रसन्न मन रहकर सुस्वास्थ्य का जीवन धन पा सके ।
प्रदीप छाजेड़
( बोरावड़, राजस्थान )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright ©2022 All rights reserved | For Website Designing and Development call Us:-8920664806
Translate »