Lok Dastak

Hindi Samachar, हिंदी समाचार, Latest News in Hindi, Breaking News in Hindi.Lok Dastak

आपकी क़िस्मत…

1 min read

 

दिल की बात अगर तुम कहोगे, तो तुम्हारी जग हंसाई होगी ।
और अगर नहीं कहोगे , तो तुम्हारी जान पर बन आई होगी ।
घुट घुट कर रहना , मगर ज़ुबाँ से तुम कुछ ना कहना ।
क्योंकि लोग ग़र सुनेंगे तो , तुम्हारी ही रुसवाई होगी ।
इसलिए सब कुछ सहते रहो और कराहते रहो ।
इस दिल के ज़ख़्मों को कौन देखता हैं, और क्या ही फ़र्क़ पड़ता है , ज़ख्मों को खाते रहो ।
थोड़ा सा झुक ही जाओगे , तो कौन सा पहाड़ टूट पड़ेगा ।
कम से कम ये रिश्ता तो तुम्हारा , बचा रहेगा ।
थोड़ा सा सहन करना सीखो , और रिश्तों को निभाना सीखो ।
सामने वाला तो जैसा है , वो वैसा ही रहेगा,
तुम ही थोड़ा सा समझौता कर , झुकना सीखो ।
क्या हुआ , जो सामने वाला तुम्हें वो अहमियत नहीं देता , जिसके तुम हक़दार हो।
लेकिन तुम्हें तो फिर भी , उसको अहमियत देनी पड़ेगी, क्योंकि , तुम तो समझदार हो ।
रिश्तों को सम्भालकर रखना , ध्यान रखना , टूट ना जाएँ कहीं ।
तुम्हीं पर है ज़िम्मेदारी ये सारी , ध्यान रखना बिखर ना जाएँ कहीं ।
कोई नयी बात तो है नहीं ये , जो तुम कर रहे हो ।
सदियों से सभी तो करते आए हैं , तुम तो बेवजह ही परेशान हो रहे हो ।
ये तो तुम्हारी क़िस्मत में लिखा ही होगा , क़िस्मत से भला कौन लड़ पाया है ।
जो क़िस्मत में लिखा है वो तो झेलना ही होगा , सभी के हिस्से में थोड़े ही सुख आया है ।

— सुमन मोहिनी ( नई दिल्ली)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright ©2022 All rights reserved | For Website Designing and Development call Us:-8920664806
Translate »