Lok Dastak

Hindi Samachar, हिंदी समाचार, Latest News in Hindi, Breaking News in Hindi.Lok Dastak

कोटा में कब थमेगा आत्महत्याओं का सिलसिला

1 min read

 

कोचिंग हब के रुप में प्रतिष्ठित राजस्थान राज्य के कोटा में कोचिंग में  पढ़ाई कर रहे छात्रों द्वारा लगातार आत्महत्या की घटनाएं पीड़ा से भर देने वाली है। अभी गत रविवार को ही तैयारी करने वाले दो छात्रों ने मौत को गले लगाया है। सिर्फ वर्ष 2023 की ही बात करें तो अभी तक 23 प्रतियोगी छात्र जान गंवा चुके हैं।

छात्रों द्वारा आत्महत्या न सिर्फ कोचिंग संस्थाओं की विद्रुपताओं और सड़-ंगल चुकी व्यवस्था को उजागर करता है बल्कि परीक्षा के पैटर्न पर भी सवाल खड़ा करता है। यह तथ्य है कि कोचिंग का हब बन चुके कोटा में हर वर्ष देश भर से लाखों छात्र इंजीनियरिंग और मेडिकल परीक्षाओं की तैयारी के लिए आते हैं।

सभी का सपना आईआईटी और मेडिकल संस्थानों में एडमिशन पाना होता है। इसके लिए छात्र कोचिंग संस्थानों को भारी रकम चुकाते हैं। संस्थानों द्वारा भी छात्रों को सौ फीसदी सफलता की गारंटी दी जाती है। लेकिन सच्चाई है कि ये संस्थान छात्रों को गुणवत्तापरक शिक्षा देने के बजाए उनके सपनों से खेलते हैं।

छात्रों का शेडयूल कितना बोझिल होता है इसी से समझा जा सकता है कि उन्हें ठीक से नींद नहीं मिल पा रही है। हर छात्र को तकरीबन हर दिन 6 घंटे कोचिंग क्लासों में बिताना पड़ता है। इसके अलावा उन्हें 10 घंटे स्वयं अध्ययन करना पड़ता है। ऐसे में अगर छात्र अवसादग्रस्त होते हैं तो यह अस्वाभाविक नहीं है।

अगर कोचिंग संस्थानों की गतिविधियों पर नजर डालें तो ये शिक्षा के केंद्र कम कारोबार के केंद्र ज्यादा हैं। आज की तारीख में कोटा में पसरे संस्थानों का कारोबार हजारों करोड़ रुपए से अधिक का है। कोटा में प्रत्यक्ष व परोक्ष रुप से तकरीबन डेढ़ करोड़ से अधिक छात्र जुड़े हुए हैं। एक छात्र की सालाना औसत कोचिंग फीस तकरीबन एक से दो लाख रुपए होती है।

बाकी अन्य खर्चे जोड़ लें तो हर छात्र को तकरीबन सालाना कम से कम ढ़ाई से तीन लाख रुपए देना पड़ता है। कोचिंग के पैसे से रियल स्टेट और छात्रावास निर्माण का कारोबार चरम पर पहुंच चुका है। जब इतने बड़े पैमाने पर छात्र कोचिंग कर रहे हैं तो उनके रहने के लिए आवास की जरुरत पड़ेगी ही। छात्रों की मानें तो उनके रहने के लिए छात्रावास कम पड़ने लगे हैं।

लिहाजा हजारों छात्र घरों में पेइंग गेस्ट के रुप में रह रहे हैं। दुर्भाग्यपूर्ण यह कि छात्रों का सिर्फ आर्थिक और मानसिक शोषण ही नहीं हो रहा है बल्कि उनकी सेहत के साथ भी खिलवाड़ हो रहा है। छात्रावासों में उन्हें अस्वस्थ तरीके से बना अपौष्टिक भोजन परोसा जा रहा है, जबकि इसके लिए मनमाना पैसा लिया जा रहा है।

जिले के खाद्य सुरक्षा सेल द्वारा जब भी मान्यता प्राप्त भोजनालय और फुड सेंटर पर खाने की क्वालिटी को परखा जाता है उसमें कमियां पायी जाती हंै। बेहतर होगा कि जिला प्रशासन ऐसे सेंटरों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करे। कोचिंग सेंटरों का हाल और भी बुरा है। यहां छात्रों के अनुपात में संसाधनों की भारी कमी है।

कक्षाओं में इतनी अधिक भीड़ होती है कि छात्र ठीक से बैठ नहीं पाते, अध्ययन करना तो दूर की बात है। ऐसे में सम-हजया जा सकता है कि वे किन परिस्थितियों में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं। सबसे खतरनाक पहलू यह कि कोचिंग केंद्रों में छात्रों को विषयों की गहन जानकारी देने के बजाए शार्टकट सफलता हासिल करने के मंत्र दिए जाते हैं।

इस पैटर्न का फायदा जीनियस छात्र तो उठा लेते हैं लेकिन औसत छात्रों को नुकसान ही होता है। कहना गलत नहीं होगा कि कोचिंग सेंटरों में छात्रों को रट्टू तोता बनाया जा रहा है। संभवतः उसी का कुपरिणाम है कि आज परीक्षाओं में मुठ्ठी भर छात्रों के हाथ सफलता लग रही है और शेष छात्र असफलता के शिकार हो रहे हैं।

यह असफलता उनमें हीन भावना पैदा करती है और वे इतना अवसादग्रस्त हो जाते हैं कि आत्महत्या कर बैठते हैं। पर विडंबना है कि छात्रों की आत्महत्या की घटना भी कोचिंग संस्थानों और अभिभावकों को विचलित नहीं कर रही है। इसका सीधा मतलब यह हुआ कि कोचिंग संस्थानों का उद्देश्य प्रतिभाओं को ग-सजय़ना नहीं बल्कि येन-केन-प्रकारेण छात्रों से धन उगाही करना है।

यह विडंबना है कि कोचिंग संस्थान ऐसे बच्चों को भी अपने कोचिंग केंद्रों में दाखिला ले लेते हैं जो इंजीनियरिंग और मेडिकल क्षेत्र में जाने की मानसिक योग्यता नहीं रखते। या यों कहें कि वे ऐसे बच्चों को भी इंजीनियर और डाॅक्टर बनाने का प्रलोभन देते हैं जिनमें इंजीनियर और डाॅक्टर बनने की न तो अभिरुचि होती और न ही क्षमता।

लेकिन गौर करें तो इसके लिए सिर्फ कोचिंग संस्थानों को ही जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता। छात्रों के अभिभावक भी उतने ही जिम्मेदार हैं। वे अपने बच्चों की मानसिक क्षमता परखे बिना उन्हें इजीनियर व डाॅक्टर बनाने पर तुले हुए हैं। उचित होगा कि कोचिंग संस्थान और अभिभावक दोनों बच्चों की मानसिक क्षमता का ध्यान रखते हुए उन्हें उस दिशा में प-सजय़ने के लिए पे्ररित करें जिसमें उनकी अभिरुचि है।

लेकिन दुर्भाग्यवश ऐसा नहीं हो रहा है। यह हमारी शिक्षा प्रणाली की घोर विफलता ही है कि विज्ञान व गणित की पढ़ाई को शिक्षा की सर्वेश्रेष्ठता और रोजगार से जोड़ दिया गया है। साथ ही यह भी मान लिया गया है कि जिसे विज्ञान और गणित की समझ में नहीं आता है वह किसी लायक नहीं है। चिंता की बात यह भी कि विज्ञान व गणित की पढ़ाई करने वाले छात्र भी वैज्ञानिक बनने का सपना नहीं देखते।

उनका लक्ष्य इंजीनियर व डाॅक्टर बनकर विदेशों में भारी पैकेज हासिल करना होता है। संभवतः यहीं वह सोच है जो छात्रों को न सिर्फ अवसादग्रस्त बना रही है बल्कि जीवन के विविध क्षेत्रों में प्रतिभाओं के आने की संभावना को भी शुन्य कर रही है। इसका सीधा फायदा कोचिंग संस्थानों को मिल रहा है। इसके लिए हमारी शिक्षा प्रणाली ही जिम्मेदार है।

आज कोचिंग एक सेक्टर की तरह आर्गनाइज्ड हो चुका है। यह तथ्य भी उभरकर सामने आ रहा है कि कोचिंग सेंटर सरकारी स्कूलों के टीचर्स के साथ मिलकर धंधा कर रहे हैं और प्रतियोगी परीक्षाओं में धांधली कर रहे हैं। यह स्वीकारने में हर्ज नहीं कि स्कूल-ंकाॅलेज में होने वाली पढ़़ाई पर घटता विश्वास और ऊंचे नंबर की ब-सजय़ती चाहत ने देश भर में ट्यूशन और कोचिंग के धंधे को चरम पर पहुंचा दिया है।

लोग अपने बच्चों को सरकारी स्कूल भेजना नहीं चाहते। लेकिन ऐसे कोचिंग सेंटर में जरुर भेजते हैं जहां सरकारी स्कूलों के टीचर ही पढ़ाते हैं। एक सर्वेक्षण के मुताबिक शहर हो या गांव आज 23 फीसद छात्र प्राथमिक शिक्षा से ही ट्यूशन ले रहे हैं।

गत वर्ष पहले प्रकाशित एक आंकड़े के मुताबिक पश्चिमी बंगाल और बिहार में 89 और 65 फीसदी छात्र ट्यूशन के भरोसे हैं। इसी तरह दिल्ली में 43, हरियाणा में 24, -हजयारखंड में 54, मध्यप्रदेश में 38, पंजाब में 29 और उत्तर प्रदेश में 35 फीसद छात्र ट्यूशन के भरोसे हैं। यह हाल तब है जब शिक्षा के क्षेत्र में सर्व शिक्षा अभियान और मीड डे मील जैसी भारी भरकम योजनाएं चल रही हैं।

अगर स्कूल-ंउचयकालेजों में समुचित शिक्षा की सुलभता सुनिश्चित की जाए तो ट्यूशन और कोचिंग की बढ़़ती प्रवृत्ति पर लगाम कसना आसान होगा। इसके अलावा उचित यह भी होगा कि छात्रों को विज्ञान और गणित के अलावा मानविकी विषयों को प-सजय़ने के लिए प्रेरित किया जाए। इससे वे अवसादग्रस्त होने और आत्महत्या करने से बचेंगे। यह सम-हजयना होगा कि देश में इंजीनियरिंग और मेडिकल की सीटें कम हैं।

हर वर्ष आईआईटी-ंएनआईटी की सीटों के लिए लाखों आवेदन आते हैं। कुछ ऐसा ही हाल मेडिकल परीक्षाओं का होता है। भला ऐसे में सभी छात्रों का इंजीनियर और डाॅक्टर बनने का सपना कैसे पूरा होगा। उचित होगा कि कोचिंग संस्थान और अभिभावक इस सच को समझें कि हर छात्र को इंजीनियर और डाॅक्टर नहीं बनाया जा सकता। फिर भी वे ऐसा करते हैं तो छात्रों की जिंदगी से खिलवाड़ करने जैसा है।

अरविंद जयतिलक

(लेखक/स्तंभकार)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright ©2022 All rights reserved | For Website Designing and Development call Us:-8920664806
Translate »